समांवेशी विकास: (Inclusive Growth)

समावेशी विकास की अवधारणा और समावेशी विकास का मापन करना इसके साथ ही साथ समावेशी विकास का मुख्य आशय को समझना प्रत्येक विद्यार्थियों के लिए जरूरी होता है हम समावेशी विकास में विकास की समानता पर ध्यान देते हैं और एक ऐसे विकास की कल्पना करते हैं जिसमें आर्थिक विकास की उचित जनित राष्ट्रीय आय के वितरण में समाज के सबसे कमजोर वर्गों के लोगों को उचित हिस्सा मिलता है वर्तमान समय में समावेशी विकास को लेकर आगे बढ़ना है किसी भी देश और राष्ट्र के लिए जरूरी है

कवर किए जाने वाले बिंदु

  1. समावेशी विकास की अवधारणा (आईजी)
  2. भारत में स्थिति?
  3. आईजी . की आवश्यकता
  4. आईजी . के स्तंभ और मॉडल
  5. आईजी . से संबंधित मुद्दे
  6. IG . में भारत सरकार की पहल

समावेशी विकास क्या है?

• समावेशी विकास का मूल रूप से अर्थ है, “व्यापक आधारित विकास, साझा विकास और गरीब समर्थक विकास”
• “समावेशी विकास से तात्पर्य विकास की गति और पैटर्न दोनों से है, जो आपस में जुड़े हुए हैं और इन्हें एक साथ संबोधित किया जाना चाहिए” – विश्व बैंक
• “आईजी एक प्रक्रिया और परिणाम है जहां लोगों के सभी समूहों ने विकास के संगठन में भाग लिया है और इससे समान रूप से लाभान्वित हुए हैं” – यूएनडीपी
• समाज के सभी वर्गों के साथ सामाजिक-आर्थिक विकास के फल का केंद्रीय विचार-साझा करना

समावेशी विकास के घटक

  1. कृषि में विकास
  2. रोज़गार
  3. गरीबी घटाना
  4. पर्यावरण की सुरक्षा
  5. औद्योगिक और सामाजिक क्षेत्र का विकास
  6. आय असमानता में कमी
  7. क्षेत्रीय विषमताओं में कमी

क्या भारत ने आईजी हासिल कर लिया है?

  • अत्यधिक गरीबी में रहने वाली सबसे बड़ी जनसंख्या – 224 मिलियन
  • सबसे बड़ी भूखी आबादी – 194 मिलियन
  • स्वच्छता स्तर
  • रोज़गार
  • साक्षरता स्तर
  • वित्तीय समावेशन
  • बिजली तक पहुंच

भारत में समावेशी विकास की आवश्यकता

  • भारत क्षेत्रफल के हिसाब से 7वां और जनसंख्या के हिसाब से दूसरा सबसे बड़ा देश है। यह बाजार विनिमय दर के साथ-साथ पीपीपी पर सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में से एक है
  • भारत कुपोषण, गरीबी, कम साक्षरता दर, स्वच्छता समस्याओं, भ्रष्टाचार आदि जैसे सामाजिक संकेतकों में कम विकास से पीड़ित है
  • भारत जीडीपी, औद्योगिक उत्पादन, बुनियादी ढांचे के विकास आदि जैसे आर्थिक संकेतकों में असंतोषजनक वृद्धि से पीड़ित है
  • यद्यपि उच्च जीडीपी विकास दर हासिल की जा रही है, लेकिन उसका फल सभी लोगों तक नहीं पहुंच रहा है।

समावेशी विकास का मॉडल

सरकार

  • सतत विकास के कारण उत्पादक नौकरियां
  • शिक्षा, स्वास्थ्य में निवेश-पहुंच प्रदान करने के लिए समावेशन या समान स्तर का खेल मैदान सुनिश्चित करना
  • सामाजिक सुरक्षा जाल कालानुक्रमिक गरीबों की रक्षा के लिए

समांवेशी विकास

आईजी – 4 स्तंभ

1. विकास और आर्थिक अवसर
पीपीपी पर प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर
रोज़गार दर
प्रति व्यक्ति बिजली की खपत

2. सामाजिक समावेश
स्कूली जीवन प्रत्याशा
छात्र-शिक्षक अनुपात
शिक्षा पर सरकारी व्यय कुल सरकारी व्यय के प्रतिशत के रूप में
श्रम बल की भागीदारी में लैंगिक समानता
बिजली आदि की पहुंच वाली जनसंख्या का प्रतिशत

3. सामाजिक सुरक्षा जाल
सामाजिक सुरक्षा व्यय
कुल सरकारी व्यय के प्रतिशत के रूप में सामाजिक सुरक्षा और कल्याण पर सरकारी व्यय
सामाजिक सुरक्षा आदि

4. सुशासन और संस्थान
जवाबदेही
सरकारी प्रभावशीलता

आईजी . से संबंधित मुद्दे

  • विकास बनाम विकास बहस
  • गरीब को परिभाषित करना मुश्किल है
  • एलपीजी ने सिर्फ निजी कंपनियों और अमीरों को फायदा पहुंचाया है
  • सामाजिक बुनियादी ढांचे के विकास की उपेक्षा की गई है
  • प्रौद्योगिकी और नवाचार को बढ़ावा देने की जरूरत
  • सामाजिक विषमता तेज गति से कम नहीं हो रही है

सरकार द्वारा सुधार

  1. मुद्रा योजना
  2. पीएमजेजेबीवाई
  3. पीएमएसबीवाई
  4. एपीवाई
  5. जेडीवाई
  6. साग्य
  7. एनईएसए
  8. एचडीआई – यूएनडीपी

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई)

आयाम लंबा और स्वस्थ जीवन ज्ञान एक सभ्य जीवन स्तर
संकेतक जन्म के समय जीवन प्रत्याशा स्कूली शिक्षा के वर्ष / स्कूली शिक्षा के अपेक्षित वर्ष प्रति व्यक्ति जीएनआई (पीपीपी $)
आयाम सूचकांक जीवन प्रत्याशा सूचकांक शिक्षा सूचकांक जीएनआई सूचकांक

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई)
WEF – समावेशी विकास और विकास रिपोर्ट

समावेशी विकास और विकास ढांचा

स्तंभ 1: शिक्षा और कौशल विकास :- [पहुंच> गुणवत्ता> इक्विटी]

स्तंभ 2 रोजगार और श्रम मुआवजा :- [उत्पादक रोजगार > मजदूरी और गैर-वैगो श्रम मुआवजा]

स्तंभ 3: संपत्ति निर्माण और उद्यमिता: – [लघु व्यवसाय स्वामित्व> गृह और वित्तीय संपत्ति स्वामित्व]

स्तंभ 4: वास्तविक अर्थव्यवस्था निवेश का वित्तीय मध्यस्थता :-  [वित्तीय प्रणाली समावेशन > व्यापार निवेश का मध्यस्थता]

स्तंभ 5: भ्रष्टाचार और किराए :- [व्यापार और राजनीतिक नैतिकता > किराए की एकाग्रता]

स्तंभ 6: बुनियादी सेवाएं और अवसंरचना:- [बुनियादी और डिजिटल अवसंरचना > स्वास्थ्य संबंधी सेवाएं और अवसंरचना]

स्तंभ 7: वित्तीय स्थानान्तरण :- [कर संहिता > सामाजिक सुरक्षा]

समांवेशी विकास: (Inclusive Growth)
error: Content is protected !!